चंबल नदी और आसपास का इलाका जितना बदनाम है प्राकृतिक दृष्टि उतना ही खूबसूरत भी है-अमी प्रबल

newsmailtodaycom

17861751_1274745052608913_2291933330695831468_n

ग्वालियर. चंबल नदी और इसके आसपास का इलाका जितना बदनाम है प्राकृतिक दृष्टि उतना ही ये खूबसूरत भी है, बहुत सीधा सा कारण है,  बागियों और डाकुओं की मौजूदगी और उससे उपजे डर ने यहां का तथाकथित विकास नहीं होने दिया, नदी के आस पास बहुत ज्यादा औद्योगिक इकाईयां न होने से नदी साफसुथरी और जहर रहित है,  नतीजा लाखों मछलियां यहां सांस लेती हैं ए जिसके कारण हर साल सैंकड़ों देसी और प्रवासी परिंदें यहां आते हैं कई परिंदों की प्रजातियां यहां अपना नीड़ बनाकर जीवन को नया आकार देती हैं ए मगरमच्छ घड़ियालों डालफिन के अलावा कछुओं की वो प्रजातियां जो अब खत्म होने की कगार पर हैं चंबल की विशेषताओं के कारण यहां अपना घर बनाए हुए हैं 

एक विशेष चीज ने मेरा ध्यान हमेशा आकर्षित किया कि यहां हम खतरनाक से दिखने वाले मगरमच्छ और घड़ियाल के साथ साथ कई छोटे बड़े परिंदों को एकसाथ बैठा…

View original post 133 more words

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s