पाक सेना ने एलओसी पार कर आतंकियों के साथ मिलकर 2 भारतीय जवानों के सिर काटे

pak-attack-update_14.jpg

श्रीनगर. पाक आर्मी ने सोमवार को एलओसी पार कर दी और पुंछ में भारतीय इलाके में 250 मीटर अन्दर तक घुसी पाक बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) ने आर्मी बीएसएफ की पेट्रोल पार्टी पर अटैक कर दिया इसके बाद हमले में शहीद हमारे दो जवानों के सिर काट लिये, जिस बीएटी ने यह करतूत की, उसमें पाक आर्मी की वर्दी में आतंकी भी शामिल होते हैं, पाक ने ऐसी किसी घटना से इंकार कियाहै घटना के बाद भारतीय सेना ने कहा कि वह इसका माकूल जवाब देगी। वही रक्षामंत्री अरूण जेटली ने कहा कि यह शहादत बेकार नहीं जायेगी। इस दौरान आर्मी चीफ जनरल विपिन रावत श्रीनगर पहुंच गये हैं आपको बता दें कि पांच महीने में हमारे जवानों के शवों का अपमान करने का यह दूसरा मौका है इससे पूर्व में भी नवम्बर में माछिल सेक्टर में तीन जवान शहीद हो गये थे। तब तक जवान का शव क्षत विक्षत हालत में मिला था। 

यह है पूरा मामला 

सोमवार की सुबह एलओसी पर पाक ने दागे रॉकेट 

पाकिस्तान आर्मी की 647 मुजाहिद बटालियन ने सोमवार सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर में फायरिंग की। पाकिस्तान की श्पिम्पलश् पोस्ट से भारत की श्कृपाणश् पोस्ट को निशाना बना गया। मोर्टार और रॉकेट दागे गए। ऑटोमैटिक वेपंस से हैवी फायरिंग की गई।

पाक सेना घात लगाकर बैठी थी 

डिफेंस सूत्रों को बताया कि कृष्णा घाटी में पाकिस्तान ने पहले रॉकेट और भारी हथियारों से हमला किया। भारत की तरफ से भी जवाब दिया गया। इस दौरान दो पोस्ट के बीच भारतीय जवानों की एक टुकड़ी एलओसी पर लगी तारों की फेंसिंग पार कर लैंडमाइंस की चैकिंग के लिए आगे बढ़ी। पाकिस्तान की बीएटी वहां पहले से घात लगाकर बैठी थी। उसकी फायरिंग में हमारे दो जवान शहीद हो गए। इसके बाद बीएटी ने शहीदों के शवों के साथ बर्बरता की। उनके सिर काट दिए गए। वहीं, न्यूज एजेंसी के मुताबिक, आर्मी के एक सीनियर अफसर ने बताया  यह सोचा समझा हमला था। पाकिस्तान आर्मी की बीएटी टीम एलओसी पार कर भारतीय सीमा में करीब 250 मीटर तक घुस आई थी। ये काफी देर से हमले को अंजाम देने का इंतजार कर रहे थे। सोमवार सुबह पाक ने रॉकेट और मोर्टार से हमला किया। भारतीय पोस्ट पर तैनात जवानों को उलझाए रखा। इसके बाद उनका टारगेट 7 से 8 मेंबर वाली पेट्रोलिंग पार्टी थीए जो पोस्ट से बाहर चैकिंग के लिए आई थी।

फायरिंग के बाद का सीन 

पाक के हमले में 22 सिख इन्फैंट्री के नायब सूबेदार परमजीत सिंह और बीएसएफ की 200वीं बटालियन के हेड कॉन्स्टेबल प्रेम सागर शहीद हो गए। बीएसएफ के कॉन्स्टेबल राजेंद्र सिंह जख्मी हो गए। अब वे खतरे से बाहर हैं। बता दें कि शहीद प्रेम सागर यूपी के देवरिया के रहने वाले थे।

पाक की बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) जिम्मेेदार 

भारतीय सैनिकों पर हमले की घटना को पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम यानी (बीएटी) ने अंजाम दिया है। बता दें कि पहले भी भारतीय सैनिकों के शवों के साथ बर्बरता हुई है और हर बार इसके लिए (बीएटी) को जिम्मेदार ठहराया गया। ऐसा कहा जाता है कि (बीएटी)  तब ही एक्शन में आती हैए जब आतंकियों की घुसपैठ करानी होती है।

बीएटी क्या है 

बीएटी का पूरा नाम पाक बॉर्डर एक्शन टीम है। इसके बारे में सबसे पहले पांच और छह अगस्त 2013 की दरमियानी रात को पता लगा था। तब इसने एलओसी पर पेट्रोलिंग कर रही भारतीय सेना की टुकड़ी को निशाना बनाया था।  बीएटी हकीकत में पाकिस्तान की स्पेशल फोर्स से लिए गए सैनिकों का ग्रुप है। हैरानी की बात ये है कि बीएटी में सैनिकों जैसी ट्रेनिंग पाए आतंकी भी हैं। ये एलओसी में 1 से 3 किलोमीटर तक अंदर घुसकर हमला करने के लिए तैयार किया गया है। बीएटी को स्पेशल सर्विस ग्रुप यानी एसएसजी ने तैयार किया है। यह पूरी प्लानिंग के साथ अटैक करती है। ये टीम पहले खुफिया तौर पर ऑपरेशनों को अंजाम देती थी लेकिन बाद में मीडिया की वजह से खबरों में रहने लगी।

हमारे सैनिकों का अपमान पाक पहले भी कर चुका 

22 नवंबरए 2016 को माछिल में लाइन ऑफ कंट्रोल एलओसी पर पाकिस्तान के संदिग्ध आतंकियों के हमले में आर्मी के तीन जवान शहीद हो गए। एक जवान का शव क्षत.विक्षत हालत में मिला था। माछिल में हमारे जवान फेंसिंग के आगे पेट्रोलिंग करते हैं। पिछले साल 28 अक्टूबर में भी एक जवान मनदीप सिंह के शव का भी पाकिस्तान की सेना ने अपमान किया था। पाकिस्तानी आर्मी के कवर फायर का फायदा उठाते हुए आतंकी एलओसी  के रास्ते घुसे और एक जवान की जान ले ली। उसके बाद जवान के शव को क्षत.विक्षत कर दिया। ये घटना भी माछिल सेक्टर में ही हुई थी। जून 2008 में गोरखा राइफल्स के एक जवान को पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम ने केल सेक्टर में पकड़ लिया था। कुछ दिन बाद उसका सिर कलम कर लाश फेंक दी थी। 2013 में दो जवान लांसनायक हेमराज और सुधाकर सिंह के शवों को भी पाक सैनिकों ने क्षत.विक्षत कर दिया था।  1999 की कारगिल जंग के दौरान कैप्टन सौरभ कालिया को पाकिस्तान की सेना ने प्रताड़ित किया था और बाद में उनके शव के साथ भी बर्बरता की गई। 2016 में एलओसी के पास 228 और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 221 सीजफायर वॉयलेशन हुए थे।

पाक को सबक सिखाना होगा-एसआर सिन्हो, रिटायर्ड मेजर जनरल 

मेजर जनरल (रिटायर्ड) एसआर सिन्हो ने बतायाए पाकिस्तान हमेशा से ऐसा ही करता रहा है। क्योंकि उसकी सोच ही ऐसी है। इसके पीछे कहीं न कहीं भारत की कमजोर नीतियां जिम्मेदार हैं। हमारी आबादी 120 करोड़ है और उनकी 26 करोड़। हम सर्जिकल स्ट्राइक करते हैं। सैन्य कार्रवाई की जाती है तो भी पाक के आतंकी मारे जाते हैं। इसके बाद और आतंकी पैदा हो जाते हैं। वहां उनकी कोई कमी नहीं है। जब तक पाक सेना को सबक नहीं सिखाया जाएगा, तब तक कुछ नहीं होने वाला।

www.newsmailtoday.com से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिये हमें फेसबुक और
ट्विटर पर फॉलो करें

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s