JU निलंबित छात्रों को परीक्षा से इंकार, पुलिस पर जातिसूचक गाली देने के आरोप फिर हंगामा

IMG_9587.jpg

मामला जेयू लॉ डिपार्टमेंट में पिछले दिनों सस्पेंड किये गये छात्रों का 
ग्वालियर. जीवाजी विश्वविद्यालय (जेयू)  के लॉ डिपार्टमेंट में विवाद और प्रशासनिक भवन में प्रॉक्टर प्रो. आरए शर्मा से हुई मारपीटके मामले में निलंबित छात्रों ने गुरूवार की शाम को फिर हंगामा और पथराव किया, परीक्षा में दोपहर की पाली में परीक्षा देने के लिये पहुंचे छात्रों में अफरा तफरी मच गयी हंगामा कर रहे छात्रों ने सुरक्षा के लिये बुलाई पुलिस के साथ झूमा झटकी भी की और पथराव कर परीक्षा के मुख्यद्वार का कांच भी तोड़ दिया। निलंबित छात्र कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला के पास परीक्षा में बैठने के लिये अनुमति देन की  मांग को लेकर  गये थे कुलपति ने नियमों के अनुसार अनुमति देने में असमर्थता व्यक्त की थी तो छात्रों हंगामा करना शुरू कर दिया।  घंटे भर चले हंगामें में छात्रों ने पुलिसकर्मियों  के साथ धक्का मुक्की की और एक पुलिस के हाथ से डंडा छीन कर भी फेंक दिया। जेयू के सुरक्षा प्रभारी ने हंगामा और पथराव करने के खिलाफ कार्यवाही करने के लिये थाना विश्वविद्यालय में आवेदन दे दिया हैं।

परीक्षा भवन में अन्दर घुसने से रोका पुलिस ने निलंबित छात्रों, फिर हुई धक्का मुक्की और पथराव

निलंबित छात्रों ने अपने समर्थको के साथ दोपहर 2.30 बजे परीक्षा भवन  के सामने हंगामा शुरू कर दिया परीक्षा भवन के अन्दर छात्रों को जाने से रोक रहे सिपाही प्रमोद यादव से धक्का मुक्की कर अन्दर घुसने का प्रयास किया इस दोरान छात्रों की ओर पत्थर भी फेंका गया जिससे परीक्षा भवन के मुख्य द्वार लगा कांच टूट गया और अफरा तफरी मच गयी, छात्र प्रदीप जोधपुरिया का आरोप था सिपाही ने जातिगत अपमानित किया है धक्का मुक्की के बीच उसकी उंगली में चोट आयी है, छात्रों के तेवर देख टीआई विनोद करकरे ने अतिरिक्त फोर्स बुलवा लिया, सीएसपी शैलेन्द्र जादौन ने छात्रों को समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं माने , इस बीच कुछ छात्र सब इंस्पेक्टर  गिरीश शर्मा से उलझ गये एक छात्र ने उन्हें बर्दी उतार कर निपटने की चुनौति दी  तो सब इंस्पेक्टर ताव में आ गये। 

निलंबित छात्रों को परीक्षा से इंकार, पुलिस पर जातिसूचक गाली देने के आरोप फिर हंगामा

पहले कैरियर की दुहाई अनुमति की गुहार नहीं मिली तो हंगामा

लॉ डिपार्टमेंट के छह छात्रों को विवाद के बाद निलंबित किया गया था उनमें से प्रदीप जोधपुरिया, संदीप कुमार, कुलदीप टोरिया और छात्रा सुमन राहुल अहिरवार बीए एलएलबी के 8 वें सेमेस्टर का पेपर बुधवार की दोपहर 3 बजे से था इसको लेकर छात्र दोपहर 12 बजे  कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला से मिलने के लिये पहुंचे थे इनके साथ अन्य छात्र भी थे छात्रों का कहना था कि उनके कैरियर का सवाल है जो आरोप उन पर लगे हुए उनमें वो दोषी  साबित नहीं हुए हैं छात्रों ने आवेदन लिखकर दिया परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाये, विश्वास दिलाते है कि कोई अनैतिक कार्य नहीं करेंगे। यहां पर प्रभारी प्रॉक्टर डॉ. हरेन्द्र शर्मा ने छात्रों से कह दिया कि जेयू के नियमों के अनुसार निलंबित किये छात्र परीक्षा में  बैठनेे की अनुमति नहीं दी जा सकती है यही बात कुलपति ने छात्रों से कही। 

हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप से किया इंकार

जेयू के लॉ डिपार्टमेंट से निलंबित किये गये छात्रों निलंबन के खिलाफ कार्यवाही के लिये हाईकोर्ट की ग्वालियर खण्डपीठ में गुहार लगाई थी हाईकोर्ट ने इस मामले में हस्तक्षेप करने से इंकार कर दिया था। 

सुरक्षा प्रभारी की ओर से पुलिस को कार्यवाही के लिये दिया आवेदन

बुधवार को यूनीवर्सिटी के परीक्षा भवन पर जो तोड़फोड हुई उस मामले में सुरक्षा प्रभारी राजवीर की ओर से पुलिस कार्यवाही के लिये आवेदन दिया गया है  पुलिस उस पर जांच कर कार्यवाही करेगी। प्रो. आनंद मिश्रा, रजिस्ट्रार, जेयू 

छात्रों द्वारा पुलिस पर लगाये गये आरोपों की जांच की जायेगी

जेयू के परीक्षा भवन पर हंगामा और पथराव के दौरान छात्रों द्वारा पुलिस कर्मियों पर  जो आरोप लगाये उनकी जांच करवा ली जायेगी, जेयू की ओर से तोड़फोड़ के संबंध में कोई आवेदन दिया जाता है तो उस पर मामला दर्ज किया जायेगा। 

शैलेन्द्र जादौन, सीएसपी, विश्वविद्यालय सर्किल

पुलिस ने छात्रों के साथ अभद्रता की और उसी ने तोड़ा कांच 

छात्रों के खिलाफ आरोप सिद्ध नहीं हुए इसके वाबजूद उन्हें परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी गयी परीक्षा भवन पर पुलिस कर्मियों ने छात्रों के साथ अभद्रता की और पुलिस ने कांच तोड़ा  है। 

रायसिंह बौद्ध, छात्र नेता

निलंबित छात्रों ने अपने समर्थको के साथ दोपहर 2.30 बजे परीक्षा भवन  के सामने हंगामा शुरू कर दिया परीक्षा भवन के अन्दर छात्रों को जाने से रोक रहे सिपाही प्रमोद यादव से धक्का मुक्की कर अन्दर घुसने का प्रयास किया इस दोरान छात्रों की ओर पत्थर भी फेंका गया जिससे परीक्षा भवन के मुख्य द्वार लगा कांच टूट गया और अफरा तफरी मच गयी, छात्र प्रदीप जोधपुरिया का आरोप था सिपाही ने जातिगत अपमानित किया है धक्का मुक्की के बीच उसकी उंगली में चोट आयी है, छात्रों के तेवर देख टीआई विनोद करकरे ने अतिरिक्त फोर्स बुलवा लिया, सीएसपी शैलेन्द्र जादौन ने छात्रों को समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं माने , इस बीच कुछ छात्र सब इंस्पेक्टर  गिरीश शर्मा से उलझ गये एक छात्र ने उन्हें बर्दी उतार कर निपटने की चुनौति दी  तो सब इंस्पेक्टर ताव में आ गये। 

www.newsmailtoday.com से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिये हमें फेसबुक और
ट्विटर पर फॉलो करें

Advertisements

One thought on “JU निलंबित छात्रों को परीक्षा से इंकार, पुलिस पर जातिसूचक गाली देने के आरोप फिर हंगामा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s