मप्रः पांच बसों और ट्रकों में आग के हवाले किया, पेट्रोल बम फेंके, तब पुलिस ने घरों में घुस-घुसकर पीटा

02_1497056323.jpg

भोपाल/मंदसौर, नीमच और शाजापुर के बाद किसान आन्दोलन की आग अब राजधानी में भी सुलग गयी हैं। सीहोर और भोपाल से सटे एरिया में सुबह से किसानों ने वाट्सएप्प ग्रुप   पर मैसेज फैलाया कि एकत्रित हो जायें, किसान भाईयों को पुलिस ने पकड़ा है। मारपीट की जा रही है। देखते ही देखते भोपाल इन्दौर रोड पर फंदा गांव और टोल नाके पर लोग इकट्ठा होना शुरू हो गये। कुछ देर बाद उत्पात शुरू हो गया। भीड़ ने सड़क से गुजर रहे हर वाहन पर पथराव किया। पेट्रोल बम फेंककर एक ट्रक और पांच स्कूल बसों में आग लगा दी। सुबह वहां पुलिस के 50 जवान तैनात थे। दोपहर तक यह संख्या 500 से ज्यादा हो गई। उपद्रवियों पर 100 से ज्यादा आंसूगैस के गोले दागे गए, लाठीचार्ज भी किया। हालात उस वक्त बिगड़ गए जब पुलिस की टीमें गांवों में घुस गईं और घरों से निकालकर लोगों को पीटना शुरू कर दिया। महिलाओं और बुजुर्गों को भी नहीं छोड़ा। पुलिस ने 53 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है। उधर, धार में भी पुलिस पर पथराव किया गया।  

सीएम शनिवार को 11 बजे से दशहरा मैदान में उपवास पर

भोपालण् मप्र के किसान आन्दोलन का शुक्रवार को छठवां दिन है भोपाल के पास इन्दौर हाइवे पर किसानों ने फिर हिंसा की ओर कई गाडि़यों  में आग लगा दी गयी। शुक्रवार को ही शाजापुर के शुजालपुर एरिया में भी उपद्रवियों ने एक वाहन में आग लगा दी। वहींए मंदसौर हमें किसानों पर हुई फायरिंग के विरोध में यूथ कांग्रेस ने दिल्ली के तिलक ब्रिज रेलवे स्टेशन पर रोको आन्दोलन किया। किसान आन्दोलन की जा रही तोड़फोड़ और आगजनी से आहत होकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को 11 बजे से दशहरा मैदान में उपवास पर बैठने का फैसला किया। लोग आयें और मेरे साथ प्रॉबल्लम्स पर बातचीत करेंए उन्होंने कहा कि अराजकता फैलाने वालों को बख्शा नहीं जायेगा। लॉ एंड ऑर्डर बनाये रखना हमारी जिम्मेदारी है।कुछ लोगों ने लड़कों के हाथों पर पत्थर पकड़ दिये है। 

शिवराज पहले भी उपवास पर बैठ चुके हैं 

जून2012 में खाद की बढ़ी हुई कीमतों को लेकर किसान बचाओ अनुष्ठान किया और इसके बाद 24 घंटे के उपवास पर बैठे, तब केन्द्र में यूपीए की सरकार थी। मार्च 2014 अतिवर्षा के किसानों को हुए नुकसान को देखते हुए 5000 करोड़ रूपये के विशेष पैकेज कीमांग को लेकर धरना पर बैठ गये थे।  (2011 में एकबार सीएम ने फिर उपवास बैठने की कोशिश की थी, लेकिन तत्कालीन पीएम से बात होने के बाद वह नहीं बैठे) 

पहले इस्तीफा दें फिर उपवास करे- नेता प्रतिपक्ष

नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने सीएम के उपवास को चुनौतियों का सामना करने के बजाये उनसे भागने का प्रयास करना बताया हैं सिंह ने कहा कि सीएम का पद संवैधानिक है यदि शिवराज सिंह को उपवास ही करना है तो  मंत्रालय से बाहर बैठना है तो पद से इस्तीफा दें।

www.newsmailtoday.com से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिये हमें फेसबुक और
ट्विटर पर फॉलो करें

Advertisements

One thought on “मप्रः पांच बसों और ट्रकों में आग के हवाले किया, पेट्रोल बम फेंके, तब पुलिस ने घरों में घुस-घुसकर पीटा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s