ग्वालियर. अग्नि-5 धनुष जैसी मिसाइलों को विकसित करने वाले और पृथ्वी मिसाइल के जनक डॉ. वीके सारस्वत ग्वालियर के माधव इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस टेक्नोलॉजी (एमआईटीएस) के इंजीनियर ग्रेजुएट हैं डीआरडीओ के प्रमुख रहे डॉ. सारस्वत अब नीति आयोग से जुड़े हुए थे और देश की प्रतिष्ठित  जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के चांसलर बनने जा है।  डॉ सारस्वत ने ग्वालियर से ही (एमआईटीएस) इंजीनियरिंग की डिग्री ली और 1972 में डीआरडीओ से जुड़ गए। उन्होंने भारतीय मिसाइलों को विकसित करने का प्रोजेक्ट शुरू किया। उन्होंने देश के मिसाइलमैन एपीजे कलाम के साथ मिलकर कई मिसाइल पर काम किया। उनके इस योगदान को देखते हुए डीआरडीओ ने उन्हें पृथ्वी मिसाइल का प्रोजेक्ट डायरेक्टर बनाया और उन्होंने इस कई मिसाइलें बनाकर इंडियन आर्मी को दुनिया में आगे कर दिया। इसके बाद डॉ सारस्वत ने 8000  किमी तक मार करने वाली अग्नि.5  मिसाइल को तैयार किया। इससे देश को ऐसी मिसाइल मिली, जिसकी रेंज में चीन से लेकर कई देश आ गए। डॉ सारस्वत का मिसाइल रिसर्च जारी रहा और उन्होंने नेवी के लिए 1000 किमी तक मार करने वाली धनुष मिसाइल का डिजाइन तैयार किया। उन्होंने देश की पहली इंटरसेप्टर मिसाइल भी तैयार की। सेवा निवृत्त होने के बाद बने नीति आयोग के सदस्य उनके इस योगदान को देखते हुए वह डीआरडीओ के प्रमुख बने और सेवानिवृत्त होने के बाद उन्हें नीति आयोग का सदस्य बनाया गया सरकार ने पद्मश्री और पद्मभूषण अवॉर्ड से भी सम्मानित किया है।  नीति आयोग में डॉ. वीके सारस्वत देश की  ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने पर ध्यान दिया और वह इसके लिये वे सोलर और न्यूक्ल्यिर एनर्जी पर जोर दे रहे हैं, उनके अनुसार देश में थोरियम के प्रचुर भण्डार है और इसके उपयोग से देश की जरूरत के लिये बिजली पैदा की जा सकती है। अब सरकार ने उन्हें जवाहर लाल नेहरू यूनीवर्सिटी का चांसलर बनाया है  वह इसरो चीफ  रहे कृष्णास्वामी का स्थान लेंगे।  ग्वालियर में रहकर स्टडी की है डॉ सारस्वत ने मिसाइल मैन डॉण् सारस्वत ने ही ग्वालियर में रहते अपनी स्कूली और इंजीनियरिंग एजूकेशन पूरी की है। उनके भाई डॉण् पीके सारस्वत हैं और ग्वालियर के मेडिकल कॉलेज से रिटायर हुए हैं।  ग्वालियर में सारस्वत परिवार माधव नगर रहता हैए लेकिन मिसाइल मैन सारस्वत डीआरडीओ में साइंटिस्ट बनने के बाद से दिल्ली रहते हैं।  जब वे डीआरडीओ में चीफ कंट्रोलर थे तो आईटीएम यूनिवर्सिटी ने उन्हें सम्मानित किया था और वे ग्वालियर आए थे।  www.newsmailtoday.com से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिये हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करेंvk2_1494660295

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s