कृषि विश्वविद्यालय में व्याप्त अनियमितताओं को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल

IMG-20170717-WA0081.jpg

ग्वालियर स्थानीय इकाई एवं केन्द्रीय इकाई द्वारा सोमवार को विश्वविद्यालय में व्याप्त अनियमितताओं के विरोध काली पट्टी बाँधकर 14 जुलाई तक विरोध प्रदर्शन के क्रम में आज से धरना प्रदर्शन प्रारम्भ हुआ जो माँगे माने जाने तक जारी रहेगा। मप्र के 4 कृषि महाविद्यालयों एवं 1 उद्यानिकी महाविद्यालय, 19 कृषि विज्ञान केन्द्रों, 3 आँचलिक कृषि अनुसंधान केन्द्रों, 1 क्षेत्रीय कृषि अनुसंधान केन्द्र, 6  विशेष कृषि अनुसंधानकेन्द्रों पर भी भरपूर समर्थन प्राप्त हो रहा है। 

विशेष आकर्षण छात्रों एवं कर्मचारियों का भी परिषद को समर्थन मिलना रहा। एनएसयूआई एवं म.प्र. लघु वेतन कर्मचारी संघ भी आज वैज्ञानिकों के साथ दिन भर धरना प्रदर्शन में साथ रहे। शनैः शनैः वैज्ञानिकों का यह आन्दोलन जन आन्दोलन का रूप लेता जा रहा है। 

     आज धरना प्रारम्भ होते ही विश्वविद्यालय की ओर से एक पत्र परिषद को दिया गया। जिसमें सभी मांगे पूरी किये जाने का हवाला दिया गया। जिसमें कि सभी बाते गुमराह करने वाली थीं और स्पष्ट नहीं थीं। परिषद ने सवर्मसम्मति से इसका विरोध किया और लिखित रूप में अपना प्रतिवेदन विश्वविद्यालय के कुलसचिव डीएल कोरी को सौंपा। इसके बाद विश्वविद्यालय में लगातार बैठकें आयोजित होती रहीं परन्तु नतीजा शून्य रहा और परिषद को कोई माकूल जबाव प्राप्त न होने के कारण निर्णय लिया गया कि परिषद द्वारा किये जा रहे आन्दोलन को अनिश्चित काल तक के लिये जारी रहेगा। परिषद की माँग है कि पदोन्नति सम्बन्धित सभी आदेश 30 अगस्त तक किया जाना सुनिश्चित करें। 

ऐसा इसलिये भी जरूरी है कि क्योंकि कुलपति का कार्यकाल 3 माह से भी कम समय का बचा है। वह हमेशा हमारी जायज माँगों को अनदेखी करते रहे हैं तथा अभी भी इनको टालने का प्रयास कर रहे हैं। आन्दोलन के इस उग्र रूप को देखते हुये विश्वविद्यालय प्रशासन में खलबली मची हुयी है। परिषद के सभी पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने एकजुटता दिखाते हुये विश्वविद्यालय प्रशासन एवं कुलपति के विरूद्ध विरोध प्रदर्शन किया तथा नारेबाजी की। 

परिषद द्वारा चलाये जा रहे आन्दोलन में शामिल रहें यह लोग

      धरना प्रदर्शन में लगभग 100 वैज्ञानिक, 150 छात्र और 50 से अधिक कर्मचारियों के अलावा परिषद के अध्यक्ष डॉ.ओपी दैपुरिया, महासचिव, डॉ. सुधीर सिंह भदौरिया, अधिष्ठाता छात्र कल्याण, डॉ. एसपीएस  तोमर, अन्य वैज्ञानिकों में डॉ. राजेश लेखी, डॉ. मनोज त्रिपाठी, डॉ. राजसिंह कुशवाह, संयुक्त सचिव, डा. करनवीर सिंह, मुरैना इकाई के अध्यक्ष, से डॉ. शिवप्रताप सिंह सिकरवार आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

www.newsmailtoday.com से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिये हमें फेसबुक और
ट्विटर पर फॉलो करें

Advertisements

One thought on “कृषि विश्वविद्यालय में व्याप्त अनियमितताओं को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s